पुलिस की छवि को लेकर चिंतित हैं डीजीपी

बीबीसीखबर, गाजियाबादUpdated 27-06-2018
पुलिस

गाजियाबाद। सूबे की सरकार लगातार यह प्रयास कर रही है, कि भ्रष्टाटर को खत्म करके सुशासन स्थापित किया जाए। इसी पहल में यूपी पुलिस विभाग भी अब चौंकन्ना हो गया है जी हां इसका ताजा उदाहरण है गाजियाबाद में इंटिग्रेटेड -चालान और डायल एफआईआर के उद्घाटन के लिए पहुंचे डीजीपी .पी. सिंह भ्रष्टचार करने वाले पुलिसकर्मियों पर काफी खफा नजर आए। उन्होंने स्पष्ट किया कि भ्रष्टाचार किसी स्तर का हो लेकिन किसी को बख्सा नहीं जाएगा। भले ही वह कोई पुलिसकर्मी हो या अधिकारी, सभी पर कड़ी कार्रवाई होगी। उन्होंने नोएडा सेक्टर-58 थाने के पुलिसकर्मियों पर एफआईआर दर्ज कराने की बात करते हुए कहा कि यह सिर्फ शुरुआत है। भ्रष्टाचारियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पुलिस लाइन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में डीजीपी ने कहा कि भ्रष्टाचार रोकने के लिए उन्होंने एक टीम का गठन किया है। इसे हर महीने किसी भी जिले में 3-4 मामलों की जांच करने के लिए कहा गया है। 

 

हमारा लक्ष्य सालभर में 50 ऐसे मामले तलाश करना है, जहां बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार की शिकायत हो ऐसे लोगों पर हम कड़ी कार्रवाई करेंगे तभी जाकर भ्रष्टाचार रुकेगा। उन्होंने बताया कि पुलिस के ऑडिट की तैयारी की जा रही है जिसे किसी थर्ड पार्टी से ऑडिट कराया जाएगा इससे पुलिस प्रशासन में सुधार होगा। प्रदेश में बढ़ रहे अपराध के नियंत्रण पर डीजीपी ने कहा कि हमने काफी काम किया है, पर अभी हम संतुष्ट नहीं हैं। हमनें 5000 से अधिक बदमाशों को गिरफ्तार किया है। और आगे भी गिरफ्तारी जारी रहेगी। 

Follow Us