फैशन पर चढ़ा खादी का रंग

बीबीसीखबर, फैशन स्ट्रीटUpdated 19-07-2018
फैशन

 सुष्मिता शुक्ला बीबीसी खबर

फैशन पर चढ़ा खादी का रंग 
खादी के नाम पर हमे नेताओं के पोशाक याद आती हैं। लेकिन अब खादी नेताओं के बीच से निकल बाहर आ गया है लोगों के बीच खादी नाम की लहर आ चकी हैं। अब हर कोई इसे अपने पहनावें में लाना चाह रहा है। पिछले दो वर्षो में ही खादी ने अपना यह अंदाज बदला हैं। पहली बार खादी और गा्रमीण उत्पादों की सफल बिक्री ने 50,000 करोड़ रूपय से ज्यादा का आंकड़ा पार किया हैं
जम्मू कश्मीर के खादी बोर्ड के सहायक निर्देशक अनिल कुमार शर्मा बताते है कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना को डेढ़ सौ गुना अचीव किया है। आंतकवाद के कारण 1990 से बंद पड़ा पंपार केंद्र तो खोला ही, साथ श्रीनगर में राष्ट्रीय स्तर की एंव राज्य स्तरीय प्रदर्शनी भी पहली बार लगाई। 
इसमें कही न कही सबसे बड़ा सहयोग हमारे डिजाइनरों का भी रहा हैं जो खादी को नए-नए डिजाइन के साथ रैंप पर मॉडलों को उतारा। खादी से बने डिजाइनर कपड़े ग्लोबल मार्केट को टक्कर दे रही हैं।  

 

Follow Us