जकार्ता में तिरंगा लहरा कर नीरज करेंगे भारतीय चुनौती का आगाज

बीबीसीखबर, अन्य खेलUpdated 11-08-2018
जकार्ता

 दिव्यांका शुक्ला बीबीसी खबर

स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा को 18 अगस्त को जकार्ता में होने वाले जकार्ता एशियन गेम्स के उद्घाटन समारोह के लिए 572 सदस्यीय भारतीय दल का ध्वजवाहक चुना गया । 20 वर्षीय नीरज के भारतीय खेल प्रेमियों को पदक की आस लगी हुई है । भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष नरेंद्र बत्रा ने दल के लिए आयोजित रवानगी समारोह के दौरान शुक्रवार को उनके नाम की घोषणा की एशियाई खेलों का आयोजन 18 अगस्त से 2 सितंबर तक आलमबाग में किया जा रहा है । गौरतलब है कि पूर्व हॉकी कप्तान सरदार सिंह 2014 एशियाई खेलों में भारत के ध्वजवाहक थे । भारतीय खिलाड़ियों ने दक्षिण कोरिया के इंचियोन में पिछले चरणों में 11 स्वर्ण दशरथ और 36 कांस्य पदक से कुल 57 पदक हासिल किए थे ।
सरदार सिंह को देसी कोच पर ज्यादा विश्वास--
भारतीय हॉकी खिलाड़ी सरदार सिंह और मनप्रीत सिंह ने राष्ट्रीय कोच हरेंद्र सिंह की जमकर तारीफ की हरेंद्र को मई में कोच के तौर पर नियुक्त किया गया था । आप पिछले महीने भारतीय हॉकी टीम चैंपियन ट्रॉफी में रजत पदक जीतने में सफल रही सरदार ने कहा कि मुझे अभी भी याद है कि 15-16 साल पहले हरेंद्र पाजी ने मुझे राष्ट्रीय कैंप में बुलाया हमने काफी समय बिताया मैंने उनके अंदर में तब भी खेला जब 2009 में मुख्य कोच जोश भाषा के सहायक थे भारतीय कोच के साथ काम करने में अलग तरह का एहसास होता है । हम उनके साथ कुछ भी बात कर सकते हैं ,वह भी हमें कभी भी सलाह दे सकते हैं और उन्हें पता है कि एक वरिष्ठ खिलाड़ी के तौर पर हम पूरी तरह अपना खेल नहीं बदल सकते हैं ।अगर आप विदेशी कोच के रहते 2 मिनट के ब्रेक में एक भी पॉइंट भूल जाओ तो काफी कंफ्यूजन हो जाता है । मैच के दौरान आप को बाहर से देख रहा होता है और बाहर से आपको अपनी भाषा में बताता है ।  इतने कम समय में उनकी बात को समझना और अपनाना आसान नहीं होता है इसलिए भाषा का बहुत महत्व होता है ।
नीरज से बड़ी उम्मीद भारत को---
नीरज चोपड़ा एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक के लिए भारत की सबसे बड़ी उम्मीदों में से एक माने जा रहे हैं । 20 साल के नीरज ने कम उम्र में ही बड़ी सफलता हासिल की है ।  2016 में उन्होंने अपना पहला साउथ एशियन गेम खेलते हुए स्वर्ण पदक जीता अगले साल उन्होंने एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण पर कब्जा जमाया और स्टार गोल्ड कोस्ट में अपना पहला कॉमनवेल्थ गेम खेलते हुए एक बार फिर स्वर्ण पदक अपने नाम किया ।  वह कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय भाला फेंक एथलीट हैं ।
एथलीट नीरज चोपड़ा  ने कहा "मैं खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं ।यह बहुत बड़े सम्मान की बात है । मुझे पहले इसके बारे में कुछ नहीं पता था मैं पहली बार ध्वजवाहक बना हूं और वह भी एशियन गेम्स में "

 

Follow Us