बजरंगी ने भारत के लिए जीता पहला सोना

बीबीसीखबर, अन्य खेलUpdated 20-08-2018
बजरंगी

 दिव्यांका शुक्ला , बीबीसी खबर 

18 वें एशियाई खेलों के पहले दिन पहलवान बजरंग पूनिया ने भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलाया । उन्होंने फ्रीस्टाइल 65 किलो भार वर्ग के फाइनल में जापान के पहलवान पाकिस्तानी दाइची को 11 -8 से हराया ।  बजरंग ने अपना यह गोल्ड मेडल पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई को समर्पित किया ।
 
दो बार के ओलंपिक पदक विजेता और भारत की सबसे बड़ी उम्मीद सुशील कुमार के शुरुआती राउंड में बाहर होने के बाद बजरंग पूनिया ने निराशा को खत्म किया । उन्होंने रविवार को एशियाई खेलों में स्पर्धाओं के पहले दिन भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलाया ।

मोदी ने दी  बजरंग को बधाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बजरंग को जीत पर बधाई दी।  पीएम मोदी  ने ट्वीट कर कहा कि बजरंग की यह जीत और भी खास है क्योंकि यह भारत का पहला स्वर्ण पदक है ।
 लगातार चार मुकाबले जीते
राष्ट्रमंडल खेलों का स्वर्ण पदक धारी बजरंग ने एक  दिन में चार मुकाबले जीते हैं  । उन्हें रविवार को पहले दौर में बाई मिली थी । उन्होंने तकनीकी रूप से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की बदौलत सभी बाउट अपने नाम करते हुए 65 किग्रा वर्ग के स्वर्ण पदक राउंड में जगह बनाई ।
बनाए रखा दबदबा 
बजरंगी ने उज्बेकिस्तान के सिरोजुद्दीन को 13- 3 से हराया , फिर तजाकिस्तान के फेजिएव अब्दुलकोसिम के  12-2  और मंगोलिया के बाटमागनाई बाचुलु को 10-0 से रौंद कर फाइनल में प्रवेश किया । खिताबी मुकाबले में बजरंग ने तेज शुरुआत करते हुए पहले राउंड में फटाफट 6-0 की बढ़त ले ली , लेकिन  बाद में जापानी पहलवान ने तेजी से  पैतरे बदलते हुए स्कोर 6-4 कर  मुकाबले को  रोमांचक बना दिया  । दूसरे राउंड में कड़ा मुकाबला हुआ लेकिन अंत में बजरंग ने विपक्षी को कोई मौका नहीं देते हुए दबाव बनाए रखें और स्वर्ण पर कब्जा किया । 24 वर्षीय भारती ने इससे पहले लगातार तीन स्वर्ण जीते थे । 
 
बजरंग पूनिया ने कहा कि" मुझे पूरा भरोसा था लेकिन मैं यह भी जानता था कि मुझे अपनी योजना पर डटे रहना है मुकाबले के दौरान को चुनौती आई लेकिन मैं जापानी पहलवान को काबू करने में सफल रहा यह मुश्किल मुकाबला था मैं जब अच्छी बढ़त बना चुका था तब मुझे आक्रमण नहीं करना चाहिए था लेकिन मैं खुश हूं कि मैंने एशियाई खेलों में स्वर्ण का सपना पूरा किया "

Follow Us