बेसमेंट में करें हल्के रंगों का प्रयोग

बीबीसीखबर, वास्तुUpdated 17-09-2018
बेसमेंट

बीबीसी खबर

आजकल हम जब भी कोई निर्माण करते हैं, तो प्रयास यही रहता है कि वह दिखने में खूबसूरत हो और जगह का उपयोग सही और पूरा हो । ऐसा होना भी चाहिए पर कुछ ऐसी भी बातें है, जिन पर विचार होना आवश्यक है ताकि जहां कुछ नया बन रहा है वहां के रहने वालों को किसी तरह की कोई परेशानी ना हो । बेसमेंट बनवाते समय भी यह बात लागू होती है । इसे लोग अपनी जरूरत के हिसाब से बना तो लेते हैं । खासतौर पर व्यवसाय क्षेत्र में लेकिन वास्तु अनुरूप है या नहीं इसका ख्याल नहीं रखते हैं और बेसमेंट बनाते समय कुछ बातों को अनदेखी आपको परेशानी कर सकती है ।

ऐसे में बेसमेंट जहां भी बनाएं वहां यह जरूर ध्यान में रखें कि सूर्य की रोशनी पूरी तरह आती हो । यहां पर हल्के रंगों का उपयोग करें। ऐसे रंग जो चुभे नहीं तो अच्छा है । प्रातः काल उत्तर पूर्व दिशा से आने वाली किरणें लाभदायक होती है। यदि इस तरह खिड़कियां भी होंगी तो फायदेमंद ही है । ऐसा होने से उर्जा का संचार होता रहता है ।यदि यहां किसी तरह का कोई कार्य होता है तो उसके लिए भी यह लाभदायक है। यदि यहां कोई वजनी सामान रखा है तो यह सामान दक्षिण पश्चिम की तरफ रखें । पूर्व- आग्नेय, पश्चिम -वायव्य ,उत्तर- वायव्य दिशा में खिड़कियां होना अच्छा होता है । यहां से आने वाली रोशनी बेसमेंट में सकारात्मकता भर देती है। यहां के द्वार पर पवन घंटी लगाना शुभता देता है । इससे यहां पर रहने वाले लोग खुशहाल विचारों से भरे रहते हैं ।यदि वहां पर किसी तरह की नकारात्मक उर्जा है तो एक कांच की कटोरी में समुद्री नमक रख देना चाहिए । इसे किसी भी कोने में रख दें यदि वह गीला हो जा रहा है तो इसे समय-समय पर बदलते रहे । बोसमेंट के मध्य में सफेद क्रिस्टल लगाएं । इससे के कटे हुए हिस्से में जो प्रकाश निकलता है उसे यहां की दिशाएं सक्रिय हो जाते हैं यहां यह कि लाभदायक उर्जा के संचार में सहायक होता है । यहां धूप या अगरबत्ती ना जलाएं क्योंकि इससे धुआं फैलता है और यदि धुआं के निकलने का रास्ता नहीं हुआ तो फिर यहां धीरे-धीरे नकारात्मक उर्जा आने लगती है और यह यहां के लोगों का कार्य के लिए अच्छा नहीं होता है । यहां की फर्श बनाते समय यह ध्यान रखें कि वह समतल हो । यहां के निर्माण में यह भी सहायक होता है कि यह जहां बनाया जा रहा है वह किस तरह के प्लॉट में है ।इसी तरह के बहुत से पहलुओं पर विचार करने के बाद इसका बनाना शुभता देता है शाम के समय यहां रोशनी जरूर होनी चाहिए सारे दिन में कुछ समय यहां का मुख्य द्वार और खिड़कियों जरूर खोलने चाहिए , जिससे यहां सकारात्मकता की ऊर्जा का निवास बना रहे।

Follow Us