पिता ने सोचा क्या था और हो क्या गया

बीबीसीखबर, बॉलीवुडUpdated 14-10-2018
पिता

बीबीसी खबर  

अशोक कुमार को हिंदी फिल्म जगत का पहला सुपरस्टार कहा जाता है। फिल्म इंडस्ट्री में लोग प्यार से उन्हें दादामुनि बुलाते थे।अशोक कुमार के पिता एक वकील थे और वह यही चाहते थे कि उनका बेटा बड़ा होकर उनके इस पेशे को सम्भालें, लेकिन अशोक कुमार को फिल्मों में काम करने का ऐसा शौक चढ़ा कि उन्होंने अपनी वकालत की पढ़ाई छोड़ दी और फिल्मों में काम करने का फैसला कर लिया। एक रिपोर्ट के अनुसार एक बार अशोक कुमार अपनी बहन के घर मुबंई गए हुए थे, वहां पर उन्होंने अपनी बहन के पति से कहा से कहा कि उन्हें मुबंई में ही कोई काम दिला दें। जल्द ही उन्हें मुबंई में एक टेक्निशियन की नौकरी एक अभिनेता के तौर पर नहीं  टेक्निशियन के रूप में शुरू हुई। बहुत कम लोगों को पता होगा कि अशोक कुमार पहले एक्टर नहीं डारेक्टर बनना चाहते थे, क्योंकि उन दिनों एक्टिंग को अच्छी नजर से नही देखा जाता था।

जब नाराज हो गए थे पिता

 कहा जाता है कि जब अशोक के हीरो बनने की खबर उनके घर खंडवा पहंची तो तहलका मच गया था। यहां तक कि उनकी तय शादी टूटने की कगार पर आ गई। अशोक कुमार के पिता उनके एक्टर बनने की बात से बहुत नाराज थे और वह चाहते थे कि अशोक कुमार एक्टिंग छोड़ दें। यही बात बताने के लिए अशोक हिमांशु राय के पास गए और उन्हें अपनी नौकरी के कागज दिखाए और कहा पिता जी भी आए हैं और उनसे बात करना चाहते हैं। फिर अशोक कुमार के पिता ने हिमांशु राय से बात की। थोड़ी देर बात उनके पिता उनके पास गए और कहा , हिमांशु कहते हैं कि अगर तुम ये काम करोगे तो बहुत नाम करोगे, तो मुझे लगता है तुम्हें यही करना चाहिए।

Follow Us