प्राइमरी स्कूल टीचर बना 'महाठग'

बीबीसीखबर, मध्य प्रदेशUpdated 15-12-2018
प्राइमरी

 बीबीसी खबर

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में एक सरकारी स्कूल के टीचर पर 14 हजार लोगों से ठगी करने का आरोप लगा है। पुलिस ने रविवार को आरोपी मेतुकु रविंदर को गिरफ्तार किया है। रविंदर ने ठगी के जरिए 158 करोड़ रुपये बनाए। उसका शिकार होने वालों में ज्यादातर किसान और मजदूर गांव वाले ही हैं। 

रविंदर अपने एक स्टूडेंट की बनाई कंपनी सन परिवार ग्रुप का सीईओ था और एक पोंजी स्कीम के जरिए उसने लोगों को ठगने की योजना बनाई थी। गुरुवार को जब एक पीड़ित हैदराबाद पुलिस के पास पहुंचा, तब इस घोटाले का खुलासा हुआ। 

पुलिस ने कंपनी के अलग-अलग बैंक अकाउंट में पड़े करीब 14 करोड़ रुपयों को सीज करने आदेश दिया है। पुलिस ने बताया, 'रविंदर इस स्कीम के जरिए मिले पैसों से जमीनें खरीदता था और अपने एजेंट्स को ज्यादा से ज्यादा कस्टमर लाने पर फॉरेन ट्रिप का ऑफर देता था।

साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार ने कहा कि 42 वर्षीय रविंदर ने जनवरी में फर्म जॉइन की थी और स्कूल से छुट्टी ले ली थी। उन्होंने कहा, 'वह तेजी से आगे बढ़ना चाहता था इसलिए उसने एक फेक स्कीम लॉन्च की जिसमें लोगों को हर महीने 6 पर्सेंट रिटर्न देने का वादा किया। एक समय उसने 72 पर्सेंट तक रिटर्न दिया जिससे लोग उसके जाल में फंसते चले गए।

रविंदर सिद्दीपेट जिले के एक अपर प्राइमरी स्कूल में तेलुगु भाषा का टीचर था और जून महीने से लंबी छुट्टी पर था। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, 'हमारी प्राथमिक जांच में सामने आया है कि वह इस साल जून महीने से लोगों को ठग रहा था।' एक शख्स ने करीब 1 लाख रुपये का निवेश किया था। उसे जब ठगे जाने का अहसास हुआ तो वह पुलिस के पास पहुंचा। उसकी शिकायत पर पुलिस ने रविंदर को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। 

Follow Us