प्यार में अंधे हुए जीजा-साली ने कर डाली हत्या

बीबीसीखबर, क्राइमUpdated 08-01-2019
प्यार

  

बीबीसी खबर

शादाब ने ही साली के साथ मिलकर पत्नी की हत्या की थी। रविवार को सितारगंज कोतवाली में सीओ हिमांशु जोशी ने यासमीन हत्याकांड का खुलासा किया। इस मामले में क्षेत्र के कठंगरी निवासी रियाज अहमद पुत्र अब्दुल वहीद ने पुलिस को तहरीर देकर अपने दामाद शादाब निवासी नई बस्ती किच्छा पर पुत्री को जहर देकर मारने का आरोप लगाया था। इसके बाद से पुलिस जांच कर रही थी।

सीओ ने बताया कि शादाब और उसकी साली ने योजना बनाकर यासमीन की हत्या की थी। शादाब के उसकी साली के साथ अवैध संबंध थे। इसका पता यासमीन को लग चुका था। इसी वजह से दोनों ने मिलकर यासमीन की हत्या कर दी। सीओ ने बताया कि शादाब पत्नी यासमीन को छोड़ने ससुराल कठंगरी आया था और दूसरे दिन घर में दोबारा मिलने के बहाने पहुंच गया।

आरोपी ने साली के साथ मिलकर पूरे परिवार के खाने में नींद की गोलियां मिला दीं, जब सब लोग सो गए तो बहन ने यासमीन की गला दबाकर हत्या कर दी। सीओ हिमांशु शाह ने बताया कि आरोपियों को कोर्ट में पेश करने की कार्रवाई की जा रही है।

खुलासा करने वाली टीम में कोतवाल संजय कुमार, एसएसआई मदन मोहन जोशी, एसआई रश्मि रावत, कांस्टेबल केशव लाल, नरेंद्र यादव, कमलनाथ गोस्वामी, राधा गोस्वामी शामिल रहे।

शादाब की शादी यासमीन से वर्ष 2014 में हुई थी। पुलिस के अनुसार शादी के आठ माह बाद ही जीजा और साली में शारीरिक संबंध बन गए थे। पुलिस ने बताया कि जीजा साली इस दौरान नानकमत्ता और काठगोदाम के होटलों में भी रहे, जिसकी खबर यासमीन को हो गई थी।  

वारदात के दिन जब परिजनों को यासमीन मृत मिली तब उन्होंने सोचा भी नहीं होगा कि छोटी बहन ने ही उसकी हत्या की होगी। यासमीन का 11 माह का बेटा और चार साल की बेटी हैं। उन्हें नहीं पता, जिसे वे मौसी पुकारते हैं वही उनकी मां का आंचल उनसे छीन लिया।

 बड़ी बहन यासमीन की हत्या करने के बाद पूरी रात जीजा साली फोन पर चैट करते रहे। उसने ही शादाब को काम पूरा होने की जानकारी दी। इसके बाद शादाब के कहने पर उसने फोन को झाड़ियों में फेंक दिया था, जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया। 

 

Follow Us