छप रहे 500 और 100 रुपए के नकली नोटो का भांडा फूटा

बीबीसीखबर, क्राइमUpdated 24-03-2019
छप

 बीबीसी खबर

अंबाला में 500 और 100 रुपए के नकली नोट छापने के गोरखधंधे का पर्दाफाश हुआ है। कार्रवाई को अंजाम करनाल से पहुंची स्पेशल टास्क फोर्स ने अंजाम दिया, जिस दौरान 500-500 के 19 और 100-100 के 22 नोटों के अलावा प्रिंटर व स्कैनर के साथ दो लोगाें को गिरफ्तार किया गया है। कोर्ट उन्हें दो दिन के रिमांड पर भेज दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार करनाल की स्पेशल टास्क फोर्स ने शुक्रवार रात करीब सवा 9 बजे छापा मारा। यहां से नकली नोटों के धंधे का पर्दाफाश किए जाने का दावा है। बलदेव नगर पुलिस ने मौके पर ही दो आरोपियों को गिरफ्तार किया। इनके कब्जे से 19 नोट 500-500 रुपये और 22 नोट 100-100 रुपए के बरामद हुए। प्रिंटर और स्कैनर भी बरामद हुआ। पकड़े गए दोनों आरोपियों की पहचान हाउसिंग बोर्ड काॅलोनी निवासी सुमित शर्मा उर्फ रिक्की और आसा सिंह गार्डन में रहने वाले बलजिंद्र के तौर पर हुई है। कोर्ट उन्हें दो दिन के रिमांड पर भेज दिया है।

 

दूसरी ओर इस मामले में पुलिस कार्रवाई में गड़बड़ी का भाी अंदेशा है। पुलिस का दावा है कि आरोपितों को अंबाला-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे पर वाहनों की चेकिंग के दौरान पकड़ा गया, लेकिन सूत्र बता रहे हैैं कि हाउसिंग बोर्ड काॅलोनी के मकान नंबर में जब करनाल की एसटीएफ और अंबाला पुलिस ने करीब 9:10 पर दस्तक दी तो इस घर में तीन आरोपी थे, लेकिन पुलिस दो को ही पकड़ पाई। एक आरोपी को भगा दिए जाने का आरोप है। आरोपियों के पास से जो 500-500 रुपए के नए नोट बरामद हुए, उन सभी के नंबरों में भी अंतर है। उन सभी का सीरियल नंबर 5 एलयू 882512 था। इसी तरह 100-100 रुपए के नोट का सीरियल नंबर 3एडी 274663 है।

 

हालांकि इन सभी बातों के चलते यह बात समझ से परे की है कि पुलिस ने आखिर इस तरह कहानी को बदल क्यों डाला। फिर भी पुलिस अपने दावे पर कायम है। जब इस संबंध में एसएचओ बलवान सिंह का कहना है कि मामले में कितने लोग शामिल हैं, इसकी पुलिस तफ्तीश कर रही है। आरोपी दो हैं या तीन यह तो जांच का विषय है। पुलिस किसी आरोपी को क्यों भगाएगी? उन्होंने कहा कि पुलिस ने आरोपियों को नाका लगाकर ही पकड़ा है।

 

Follow Us