अमित शाह ने रच दिया कांग्रेस के बिरोध चक्रव्यूह

बीबीसीखबर, कानपुरUpdated 14-04-2019
अमित

 बीबीसी खबर

शाम करीब पांच बजे बड़ा चौराहा स्थित लैंडमार्क होटल में भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष के अलावा लोकसभा प्रभारी जेपी नड्डा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय के साथ कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र की लोकसभा सीटों की समीक्षा करने पहुंचे। उन्होंने पांच-पांच लोकसभा सीटों के हिसाब से वहां से संयोजकों और प्रभारियों के साथ बैठक की। पहले दौर की बैठक में बुंदेलखंड की पांच लोकसभा सीटों के पदाधिकारी शामिल हुए। इसमें जालौन, फतेहपुर, बांदा, हमीरपुर और झांसी लोकसभा शामिल थी। इसके बाद कानपुर, अकबरपुर, कन्नौज, फर्रुखाबाद, इटावा, हरदोई लोकसभा सीट पर चर्चा हुई।

इन सभी सीटों की समीक्षा में राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रत्येक लोकसभा संयोजक से सवाल किया कि इन सीटों पर गठबंधन का कितना असर है। यदि असर है तो उसकी काट के लिए क्या किया गया है।

संयोजकों की बातें सुनने के बाद शाह ने कहा कि अल्पसंख्यक वोट बैंक को लेकर अलग रणनीति से काम करना होगा।
उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में मतदाताओं को उनके घर से मतदान स्थल तक लाने के लिए एक्सपर्ट कार्यकर्ताओं को लगाना होगा। जिससे बिना धूप का असर हुए ज्यादा से ज्यादा मतदान कराया जा सके।

मजे की बात है कि पूरी समीक्षा बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कांग्रेस को कहीं भी मुकाबले में नहीं रखा। कानपुर की लोकसभा सीट को छोड़कर हर जगह गठबंधन को भी सीधे मुकाबले में रखा गया है।
 
भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कानपुर-बुंदेलखंड की सभी 10 सीटें इस बार जीतना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर फिफ्टी प्लस वोट जरूरी हैं। 

उनकी निगाह में कन्नौज सीट पर जीत हासिल करना प्राथमिकता है। लैंडमार्क होटल में लोकसभा चुनाव संयोजकों और प्रभारियों के साथ समीक्षा बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ग्रामीण क्षेत्रों की लोकसभा सीटों पर गठबंधन की स्थिति पर विशेष चौकसी बरतने की हिदायत दी। उन्होंने पदाधिकारियों से दो तरह की रणनीति पर काम करने को कहा। पहली रणनीति है यह कि जहां-जहां गठबंधन की स्थिति मजबूत है, वहां उन्हें कमजोर कैसे किया जा सके।

दूसरी रणनीति यह है कि गर्मी का सीजन है, ऐसे में कार्यकर्ताओं को टी20 मैच के पहले पांच ओवर की तरह बैटिंग करनी होगी। यानि सुबह जब मतदान शुरू हो तब से साढ़े 10 बजे तक ज्यादा से ज्यादा मतदाताओं का वोट डलवा देना है।

 

Follow Us