हत्या करने वालों ने हैवानियत की सारी हदें कर दी पार

बीबीसीखबर, कानपुरUpdated 21-04-2019
हत्या

 बीबीसी खबर

कानपुर  परमट में छात्र पीयूष कटियार (18) की हत्या करने वालों ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थीं। हत्यारों ने पहले गला घोटकर उसे मार डाला था। फिर धारदार हथियार से चेहरे को क्षत-विक्षत किया और गुप्तांग काट दिया। शनिवार को पीयूष की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ। विशेषज्ञाें को आशंका है कि हत्या में दो या दो से अधिक लोग शामिल थे।

जिस तरह से पीयूष की हत्या कर उसका शव क्षत-विक्षत किया गया है, उससे पुलिस भी हैरान है। पुलिस का कहना है कि वारदात को जिस तरह से अंजाम दिया गया है, उससे ये तो स्पष्ट है कि हत्यारे पीयूष से बहुत नफरत करते थे। ये नफरत क्यों थी, ये पता लगाने में पुलिस जुटी हुई है।

फोरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. पीके श्रीवास्तव ने बताया कि छात्र को घटनास्थल पर ही मारा गया। मौके से ऐसा एक भी साक्ष्य नहीं मिला जिससे ये साबित हो कि हत्या कहीं और की गई और शव परमट में टेफ्को के बक्कल कंपाउंड के जंगल में फेंका गया हो।

परमट के नौघड़ा मोहल्ला निवासी मंजू देवी कटियार का बेटा पीयूष कटियार (18) गुरुवार रात लखनऊ जाने की बात कहकर घर से निकला था। उसी रात पीयूष की हत्या कर दी गई थी। शुक्रवार सुबह परमट मेंटेफ्को के बक्कल कंपाउंड केजंगल में पीयूष का शव मिला था। शिनाख्त के बाद पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की है। 

पुलिस के मुताबिक गुरुवार रात करीब साढ़े दस बजे केबाद से मृतक का मोबाइल स्विच ऑफ हो गया था। मगर जब पुलिस ने उसकी महिला मित्र से पूछताछ की तो उसने बताया कि रात दो बजे तक व्हाट्सएप पर उसकी पीयूष से चैट से बातचीत हुई है।

इस बात से हत्याकांड उलझ गया है। पुलिस को आशंका है पीयूष शायद दो मोबाइल रखता था, एक पर व्हाट्सएप व दूसरे को कॉलिंग केलिए इस्तेमाल करता था। सवाल है कि आखिर पीयूष का व्हाट्सएप मोबाइल किसके पास था और युवती से कौन चैट कर रहा था। 

 

Follow Us