चिमकी बुखार का कहर, 117 मासूमों की मौत

बीबीसीखबर, बिहारUpdated 20-06-2019
चिमकी

 बीबीसी खबर

 

बिहार में मासूमों पर मौत बन कर टूट रहे 'चमकी बुखार' के कहर के बीच नेता, अभिनेता और अन्य वीआईपी प्रोफाइल के लोगों ने इसे तुष्टिकरण और अपना 'पीआर' चमकाने का माध्यम बना लिया है। एक तरफ एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम से केवल मुजफ्फरपुर में 117 मासूमों की मौत हो चुकी है, वहीं नेता और अभिनेता अस्पताल पहुंच कर मजमा लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं। 

बड़ी संख्या में वाहनों के साथ अस्पताल पहुंच रहे अभिनेता और नेताओं के काफिले से पीड़ितों और मरीजों को कोई राहत तो नहीं ही पहुंच रही, बल्कि और ज्यादा परेशानी हो रही है। गुरुवार को भी शरद यादव और भोजपुरी अभिनेता खेसारी लाल यादव के पहुंचने से अस्पताल में अफरा-तफरी मच गई। 

लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव गुरुवार को दर्जन भर से ज्यादा गाड़ियों के काफिले के साथ श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) पहुंचे। अस्पताल के बाहर वाहनों की कतार लगने से बीमारों और तीमारदारों का अंदर प्रवेश कर पाना भी मुश्किल हो गया।

स्थानीय खबरों के अनुसार, मरीजों के परिजनों को इससे परेशानी हुई। उनका कहना था कि सहानुभूति और आश्वासन के अलावा उन्हें कुछ नहीं मिल रहा। वहीं, कुछ माता-पिता अपने बच्चे की हालत में सुधार नहीं आने से चिंतित थे। 

शरद यादव ने अस्पताल का दौरा किया और पदाधिकारियों संग बातचीत की। उन्होंने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर तैयारी ठीक होती तो इतनी बड़ी संख्या में मासूमों की मौत नहीं हुई होती। उन्होंने इतने बड़े काफिले के साथ अस्पताल पहुंचने से हुई परेशानियों पर अफसोस जताया। कहा कि उन्होंने अपने कार्यक्रम के बारे में किसी से बताया नहीं था।  

Follow Us