गुरुग्राम सामुहिक हत्याकांड में बड़ा खुलासा

बीबीसीखबर, दिल्लीUpdated 03-07-2019
गुरुग्राम

 बीबीसी खबर

अपने जिगर के दो टुकड़ों और पत्नी की हत्या कर फंदे पर लटकने वाले वैज्ञानिक डॉ श्रीप्रकाश सिंह की बहनों को पूरा विश्वास है कि उनका भाई कभी किसी की हत्या नहीं कर सकता। मंगलवार को भाई की चिता के पास नम आंखों से खड़ी बड़ी बहन शकुंतला एक दम से फफक पड़ी। बिलखते स्वर में शकुंतला ने कहा कि मुन्ना (वैज्ञानिक का घर का नाम) ऐसा नहीं कर सकता।

जिंदगी में उसने ऊंची आवाज में बात नहीं तो वह हत्या की बात कैसे सोच सकता है। बहनों ने रोते हुए पुलिस से गुजारिश की है इस मामले की गहनता से जांच करें। उन्होंने बताया कि हम चार बहनों में मुन्ना इकलौता था। काफी साल पहले पिताजी की मौत के बाद ही उसने घर की जिम्मेदारी संभाल ली थी। पढ़ाई में वो हमेशा होशियार रहा। अपनी शादी के बाद वह हमारी मां को भी साथ में रखता था। 

वह अपने परिवार बहुत ध्यान रखता था। ऑफिस से आने के बाद भी मां के पास ही बैठता था। मां जब भी हमसे बात करती उसकी बड़ाई करती थी, हमें भी सुनकर बहुत खुशी होती थी। पड़ोसियों से लेकर सोसायटी के सदस्यों और सुरक्षाकर्मियों से भी वह बेहद शालीन तरीके से बात करता था, इस बात को पड़ोसी भी कहते है। 

उनकी एक और बहन ने बातचीत में बताया कि मुन्ना सभी का ख्याल रखने का इंसान था। वो इतनी जघन्य वारदात कर ही नहीं सकता। पुलिस शुरुआती जांच के आधार पर भले ही श्रीप्रकाश को अपनी पत्नी-बच्चों का हत्यारा मान रही हो, मगर वह पूरे विश्वास के साथ कह सकती हैं कि इस मामले की गहन जांच की आवश्यकता है। 

उन्होंने कहा कि हम मीडिया के माध्यम से पुलिस से गुहार लगाते है कि पूरे मामले की सभी कोण से जांच की जाए। इसमें कोई और ही कहानी निकलकर सामने आएगी। इसके लिए हमें जहां भी जाना पड़ेगा हम जरूर जाएंगे। मुन्ना और उसके परिवार की मौत पर सवाल नहीं उठने देंगे।

बड़ी बहन के साथ आई उनकी पड़ोसन मनीषा शर्मा ने बताया कि जब इनकी मां की मौत हुई तो मैं भी मिलने के लिए आई थी। मुन्ना ने मुझे अपनी बहन की तरह की सम्मान दिया और कहा कि आपका बहुत-बहुत शुक्रिया आप आए। 

 

आपको बता दें कि दिल्ली से सटे गुरुग्राम में सोमवार सुबह यह सनसनीखेज वारदात सामने आई। एक वैज्ञानिक ने अपने पूरे परिवार को मौत के घाट उतार दिया, और फिर खुद आत्महत्या कर ली। गुरुग्राम के सेक्टर-49 स्थित उप्पल साउथ एंड एस ब्लॉक के फ्लैट नंबर 299 में डॉक्टर प्रकाश सिंह(55) अपने परिवार के साथ रहते थे। उनके परिवार में पत्नी सोनू सिंह(50), बेटी अदिति(22) और बेटा आदित्य(13) थे। उन्होंने बीती देर रात किसी धारदार हथियार से पहले परिवार के तीनों सदस्यों को मौत के घाट उतारा और फिर खुद फांसी पर झूल गए थे।

Follow Us