चार दरोगा सहित 29 दागी पुलिसकर्मीयों को किया गया सेवानिवृत्त

बीबीसीखबर, कानपुरUpdated 11-07-2019
चार

 बीबीसी खबर

 

पुलिस की छवि धूमिल करने वाले कानपुर रेंज (कानपुर देहात, औरैया, इटावा, फतेहगढ़, कन्नौज) के चार दरोगाओं समेत 29 पुलिसकर्मियों को गुरुवार को जबरन सेवानिवृत्त कर दिया गया। इसमें नगर के सात पुलिसकर्मी शामिल हैं।

कानपुर देहात के सात, इटावा, औरैया और कन्नौज से चार-चार व फतेहगढ़ के तीन पुलिसकर्मियों को जबरन सेवानिवृत्त किया गया। सभी 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके हैं। जबरन सेवानिवृत्ति के लिए शासन के आदेश के बाद आईजी मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता में कमेटी गठित की गई थी।

स्क्रीनिंग कमेटी में एसएसपी अनंत देव व एसपी कन्नौज अमरेंद्र प्रसाद सिंह सदस्य थे। कमेटी ने रेंज से शासन को दागी पुलिसकर्मियों की सूची भेजी थी। इसमें ड्यूटी से गैरहाजिर रहने वाले, भ्रष्टाचारी, घूसखोर, काम न करने वाले पुलिसकर्मी शामिल थे। आईजी ने बताया कि सूची में शामिल 29 पुलिसकर्मियों को सेवानिवृत्त किया गया।

एलआईयू के हेड कांस्टेबल उदय प्रताप, सिपाही उदयवीर सिंह, केशव सिंह भदौरिया, समरपाल, बनमाली, जगदीश सिंह, संतराम यादव।

कानपुर देहात
सिपाही अवधेश कुमार यादव, नवरतन सिंह, रामराज यादव, मित्र प्रकाश यादव, पुष्पेंद्र सिंह, अनिल कुमार।

इटावा
दरोगा गुलाब सिंह, हेड कांस्टेबल मौकम सिंह, सिपाही जोखन प्रसाद, बृजेंद्र सिंह।

औरैया 
दरोगा राजेश चंद्र पांडेय, दरोगा अजय कुमार सिंह, हेड कांस्टेबल सरिता सिंह चंदेल व आशाराम।

फतेहगढ़
सिपाही विजय प्रताप सिंह, लालाराम, अवधेश कुमार।

कन्नौज
दरोगा बालादीन, हेड कांस्टेबल देशराज व शिव बहादुर सिंह और सिपाही बाबूराम यादव।

Follow Us