इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च ने दी राहत की खबर, लॉकडाउन से संक्रमण की चेन टूटी

बीबीसीखबर, दिल्लीUpdated 25-04-2020
इंडियन

 बीबीसी खबर

 

लॉकडाउन के 30 दिन पूरे होने पर गुरुवार को इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने राहत की खबर दी। आईसीएमआर के निदेशक सीके मिश्र ने कहा कि 30 दिन के भीतर देश में कोरोना की टेस्टिंग में 33% इजाफा हुआ है, लेकिन मरीजों की संख्या में नहीं। मिश्र ने बताया कि 23 मार्च तक पूरे देश में 14,900 लोगों का टेस्ट किया गया था, तब 400 यानी 4% लोग संक्रमित पाए गए हैं। आज भी टेस्टिंग में संक्रमण के 4% मामले ही सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह देश के लिए राहत की बात है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की वजह से देश को तीन फायदे हुए हैं। पहला- संक्रमण की चेन टूटी है, दूसरा- केसों का डबलिंग रेट कम हुआ है और तीसरा- ज्यादा से ज्यादा लोगों की टेस्टिंग हो रही है।

 

गृह मंत्रालय ने नॉन कंटेनमेंट इलाकों और नॉन हॉटस्पॉट इलाकों के लिए बड़ी छूट का ऐलान किया। मंत्रालय की संयुक्त सचिव पीएस श्रीवास्तव ने बताया कि ऐसे इलाकों में सड़क निर्माण कार्य, ईंट-भट्‌टे, दूध, ब्रेड, आटा, दाल मिलों, किताबों की दुकानें खोलने की इजाजत दे दी गई है। गर्मी के मौसम में इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानें भी खोली जाएंगी। जो इलाके हॉटस्पॉट जोन में नहीं हैं, वहां राज्य सरकारें उद्योगों को शुरू करवा रही हैं।


डॉ. मिश्रा ने कहा- अमेरिका में 26 मार्च तक 5 लाख लोगों का टेस्ट किया था। इनमें 80 हजार संक्रमित पाए गए थे। इटली में 31 मार्च तक 5 लाख लोगों का टेस्ट हुआ और इनमें एक लाख कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। यूके में 20 अप्रैल तक 5 लाख लोगों का टेस्ट हुआ और इनमें एक लाख 20 हजार संक्रमित मिले। तुर्की में 16 अप्रैल तक 5 लाख लोगों का टेस्ट हुआ और इनमें 80 हजार लोग संक्रमित पाए गए। भारत में 22 अप्रैल तक 5 लाख लोगों का टेस्ट हुआ, जिनमें करीब 20 हजार ही संक्रमित पाए गए। ऐसे में अन्य देशों के मुकाबले भारत में स्थिति काफी बेहतर है।  

·         स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि एक दिन में 380 लोग ठीक हुए। कोरोना संक्रमण से ठीक होने की संख्या में इजाफा हो रहा है। अब रिकवरी रेट 19.89% तक पहुंच गया है।

·         जिला स्तर पर फोकस करते हुए अस्पतालों की क्षमता बढ़ाई गई है। सरकार की कोशिश है कि लोगों को अस्पताल न पहुंचना पड़े। इसके लिए सभी को सोशल डिस्टेंसिंग और अनुशासन का पालन करना होगा।

·         कोविड हेल्थ सेंटर में आइसोलेशन की सुविधा बढ़ाई गई है। होटल जैसे अन्य स्थानों पर क्वारैंटाइन की सुविधा शुरू की गई। सभी अस्पतालों में गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन की सुविधा दी जा रही है। 

·         आईसीएमआर के निदेशक ने कहा कि प्लाज्मा डोनेट करने वाले लोग खुद सामने आ रहे हैं। यह गंभीर बीमारी नहीं है। अब 90-95 फीसदी लोग खुद ठीक हो रहे हैं।

·         आईसीएमआर निदेशक ने बताया कि अभी 4.5% सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। 3 मई के बारे में कहा नहीं जा सकता है। लॉकडाउन के बाद भी हमें कोविड और नॉन कोविड मरीजों के इलाज में सावधानी रखनी होगी। दोनों के लिए अलग-अलग अस्पताल रखने होंगे।

·         78 जिले ऐसे हैं जहां पहले संक्रमित पाए गए थे, लेकिन अब पिछले 14 दिनों से कोई नया केस सामने नहीं आया है।

 

Follow Us