जानिये शराब तस्कर भूपेंद्र की कहानी, कैसे रातों-रात बन गया करोड़पति

बीबीसीखबर, अंबालाUpdated 14-05-2020
जानिये

  सोनीपत-

 किसान परिवार में पैदा हुए एक शख्स ने रात-रात करोड़पति बन गया। ये कहानी किसी फिल्म की कहानी से कम नहीं है। भूपेंद्र नाम के इस शख्स ने पुलिस की मदद से कई करोड़ की शराब डकार गया, जिसमें पुलिस महकमे से जुड़े कई आला अधिकारी भी इस मामले में सलिप्त बताए जा रहे हैं। बता दें कि खरखौदा में हुए शराब घोटाले मामले में एसआईटी की जांच जारी है। बुधवार को डीएसपी जितेंद्र ने भूपेंद्र से उसकी कुल सम्पत्ति ओर बरामद हुए 97 लाख के बारे में पूछताछ की। आरोपी ने डीएसपी को बताया यह 97 लाख रुपये उसने खरखौदा में सील की गई शराब को बेचकर कमाए थे।

 आरोपी की जुबानी, तस्करी की कहानी –

आरोपी ने बताया कुछ साल पहले वह मामूली किसान था। इसके बाद वह शराब के अवैध कारोबार से जुड़ा। अब उसका खरखौदा में एक स्कूल है, जो उसकी मां के नाम पर है। एक ईट भट्ठा, एक रेस्टोरेंट, खुद की जमीन, दो लग्जरी गाड़ी हैं। आरोपी ने बताया उसने पिस्तौल अपने दोस्त से खरीदी थी। डीएसपी ने बताया सम्पत्ति को लेकर आरोपी से पूछताछ जारी है। आरोपी को गुरुवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

एसआईटी प्रमुख डीएसपी जितेंद्र ने बताया कि आरोपी भूपेंद्र ने बताया है कि उसने शराब तस्करी से करोड़ों रुपये कमाए। उसने बताया अब एक निजी स्कूल, ईट भट्ठा, रेस्टोरेंट, खुद की जमीन, दो लग्जरी गाड़ी हैं। इसकी सम्पत्ति की जांच करने के लिए ईडी व इनकम टैक्स को लिखा है। सस्पेंड किए गए खरखौदा थाना प्रभारी जसबीर के गिरफ्तारी के लिए प्रयास जारी है।

डीएसपी जितेंद्र ने बताया आरोपी भूपेंद्र के भाई जितेंद्र व आरोपी जसबीर को गिरफ्तार करने के लिए रेड की जा रही है। लेकिन दोनों फरार आरोपी नहीं मिले। भूपेंद्र ने बताया यूपी, दिल्ली, बिहार, गुजरात, पंजाब व हरियाणा में शराब तस्करी के लिए उसने काफी लोगों से साठगांठ कर रखी है। डीएसपी जितेंद्र ने बताया आरोपी भूपेंद्र ने सील की गई शराब में से 5696 पेटियां को बेचा। अब आबकारी विभाग ने भी एक शिकायत दर्ज कराई है। जिसकी जांच की जा रही है।

डीएसपी जितेंद्र ने आरोपी से पूछताछ की तो उसने बताया वह अवैध शराब का कारोबार पंजाब से करता है । पंजाब की राजपुरा की डिस्लरी से शराब लेकर सोनीपत आता है । एक परमिट पर कई गाड़ियों को निकलवाता है। सब साठगांठ से होता है। फिर शराब पर नकली लेबल लगाकर मंहगा माल तैयार करता है। वह इस माल को आगे सप्लायर को बेच देता है।

 

 

Follow Us