बिना आधार नंबर के नहीं होगा दाखिला, जानिये क्या है वजह ?

बीबीसीखबर, कुरुक्षेत्रUpdated 15-05-2020
बिना

  हरियाणा।

हरियाणा में जहां एक ओर सरकार ने स्कूलों में दाखिला के लिए नए फरमान जारी कर दिए हैं। यही नए फरमान लोगों के लिए मुसीबत बन गए हैं। हरियाणा के सरकारी स्कूलों के शिक्षक आधार नंबर व अन्य दस्तावेज न होने पर बच्चों को दाखिला से वंचित रख रहे हैं। बिना दस्तावेज ऑनलाइन दाखिला देने से साफ मना किया जा रहा है। जिसकी अनेक शिकायतें मिलने पर सरकार ने कड़ा रुख अपना लिया है। स्कूल शिक्षा विभाग ने सभी शिक्षा अधिकारियों व स्कूल मुखिया को साफ कर दिया है कि लॉकडाउन में बिना दस्तावेज दाखिला दिया जाए। बच्चों को आधार से छूट दें। स्कूल खुलने पर दस्तावेज लिए जाएंगे।

जिन छात्रों का दाखिला 6वीं व 9वीं में होना है, उन्हें सीरियल नंबर पर दाखिला दें। उनमें सारी जानकारी है। स्कूल लिविंग सर्टिफिकेट को भी दाखिला के लिए पर्याप्त मानें। निर्देशों की उल्लंघना पर कार्रवाई की जाएगी। सभी स्कूल अभिभावकों के साथ घर लौट गए प्रवासी बच्चों की जानकारी भी जुटाएं। उनके अभिभावकों से बात करें ताकि ड्राप आउट रेट संतुलित किया जा सके। नए दाखिला के लिए एसएमसी व मिड डे मील वर्कर्स के साथ मिलकर अभियान चलाने के निर्देश दिए गए हैं।

हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ सरकारी स्कूलों में अधिक से अधिक दाखिला के लिए शिक्षकों की हजारों टीमें लगाएगा। राज्य कोर कमेटी की महत्वपूर्ण बैठक में राज्य अध्यक्ष सीएन भारती की अध्यक्षता में यह निर्णय लिया गया। भारती के अलावा महासचिव जगरोशन व कोषाध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद बाटू ने बताया कि अध्यापक संघ अपने कार्यकर्ताओं व समस्त अध्यापक वर्ग को आह्वान करता है कि स्कूलों में नए दाखिलों के लिए हर वर्ष की तरह नामांकन अभियान चलाएं।इसके लिए आंगनवाड़ी से विद्यालय जाने वाले बच्चों की सूची लेकर, सर्वे कर व सोशल मीडिया पर बच्चों के आधार व फोटो लेकर दाखिला अभियान में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लें। सरकार, स्वास्थ्य विभाग व विशेषज्ञों की राय के बाद 33 प्रतिशत स्थानीय स्टाफ को स्कूल जाने की छूट दे, जिससे विद्यालय के कामकाज शुरू हो सकें। कोविड-19 की महामारी में बिना किसी सुरक्षा उपकरण के जान जोखिम में डालकर 70-80 हजार शिक्षक ड्यूटी कर रहे हैं।

 

Follow Us