परिवार नियोजन अपनाने में महिलाओं की रुचि बढ़ी

बीबीसीखबर, बांदाUpdated 24-07-2020
परिवार

 बाँदा।

जनपद में आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी, सक्षम राष्ट्र और परिवार की पूरी जिम्मेदारीथीम के साथ जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा चलाया जा रहा है। आगामी 31 जुलाई तक चलने वाले इस अभियान के दौरान जिले से लेकर ब्लॉक स्तर पर भी फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए परिवार नियोजन को लेकर प्रचार-प्रसार की गतिविधियाँ आयोजित की जा रही हैं जिनका असर दिखने लगा है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों की मानें तो महिलाएँ इस मुहिम  में पुरुषों से आगे निकलकर अधिक ज़िम्मेदार साबित हो रही हैं।

 

जिला कार्यक्रम प्रबंधक (डीपीएम) कुशल यादव ने बताया कि जनसँख्या स्थिरता पखवाड़े के तहत स्वास्थ्य विभाग पूरी सतर्कता के साथ लोगों को परिवार नियोजन के प्रति जागरुक करने में जुटा है। लोगों को छोटे परिवार के बड़े फायदे बताने के लिए स्वास्थ्य कन्द्रों में वाल पेंटिंग व रिक्शा के ज़रिये प्रचार-प्रसार और माइकिंग कराई जा रही है। आशा कार्यकर्ता परिवार नियोजन की स्थायी तथा अस्थाई विधियों के बारें में लोगों को जागरुक करने के साथ ही उन्हें अपनाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित कर रही हैं। फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए घर-घर अस्थायी गर्भनिरोधक साधनों का वितरण भी कर रही हैं। समुदाय और चिकित्सा इकाई स्तर पर भी इच्छुक लाभार्थियों की काउंसिलिंग कर परिवार नियोजन के विभिन्न गर्भ निरोधक साधन (बास्केट ऑफ  च्वायस) उपलब्ध कराए जा रहे हैं। अस्पताल सहित अन्य स्थानों पर लगे कंडोम बाक्स को प्रतिदिन विसंक्रमित किया जाता है। बार-बार आने अथवा संपर्क से बचने के लिए कंडोम और गर्भ निरोधक गोली के अतिरिक्त पैकेट (कम से कम दो माह का) लाभार्थियों को प्रदान किये जा रहे हैं।

 

डीपीएम ने बताया कि पखवाड़े के दौरान महिला लाभार्थियों को अंतरा इंजेक्शन, प्रसव पश्चात आईयूसीडी सेवाओं को अपनाने के लिए विशेष रूप से प्रेरित किया जा रहा है । नसबन्दी सेवा ( महिला एवं पुरूष) के लिए इच्छुक लाभार्थियों का पहले से पंजीकरण भी किया जा रहा है।

 

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संतोष कुमार ने पखवाड़े की समीक्षा कर उन ब्लाकों के चिकित्सा अधिकारियों को सुधार के लिए निर्देश दिए गए हैं जिनकी प्रगति कम रही है।

 

मिलती है प्रोत्साहन राशि

फैमिली प्लानिंग लॉजिस्टिक्स मैनेजर चैतन्य कुमार ने बताया कि जनसँख्या स्थिरता पखवाड़े के दौरान 11 से 22 जुलाई तक 120 महिलाओं ने पीपीआईयूसीडी लगवाया, 95 ने आईयूसीडी और 115 ने अंतरा गर्भनिरोधक इंजेक्शन को अपनाया है। वहीँ 1282 छाया गर्भनिरोधक गोली और 9692 कंडोम का भी वितरण किया गया है। उन्होंने बताया कि मिशन परिवार विकास के तहत जनपद में लोगों को गर्भनिरोधक साधन अपनाने पर प्रोत्साहन राशि भी दी जाती है। नसबंदी कराने वाले पुरुषों को बतौर प्रोत्साहन तीन हज़ार और महिलाओं को दो हज़ार रुपये  की धनराशि दी जाती है। इसके अलावा पोस्टपार्टम स्टर्लाईज़ेशन (प्रसव के तुरंत बाद नसबंदी) कराने वाली महिलाओं को तीन हज़ार रूपये की धनराशि दी जाती है। जबकि अस्थाई विधियों में प्रसव पश्चात आईयूसीडी के लिए लाभार्थी को 300 रुपये  की प्रोत्साहन राशि दी जाती है। वहीँ अंतरा इंजेक्शन के प्रति डोज़ पर 100 रुपये  दिए जाते हैं।

Follow Us