मांगों को लेकर गांधी चौक पर गरजे जिले के मिड-डे मील कर्मचारी

बीबीसीखबर, हमीरपुर (हिमाचल प्रदेश)Updated 16-10-2020
मांगों

 सीटू राज्य कमेटी के आह्वान पर मिड-डे मील वर्कर्स यूनियन जिला हमीरपुर ने वीरवार को अपनी मांगों को लेकर गांधी चौक हमीरपुर पर प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने अपनी मांगों को लेकर एसडीएम हमीरपुर के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी भेजा। सीटू के जिला सचिव जोगिंद्र ने कहा कि मिड-डे मील वर्कर स्कूलों में खाना बनाने और परोसने का काम करते हैं। स्कूल के अन्य कर्मचारियों की तरह सारा दिन 9 बजे से लेकर 3 बजे तक काम करते हैं पर, उन्हें सरकार की तरफ से निर्धारित न्यूनतम वेतन तक नहीं मिलता। इसे लेकर मिड-डे मील वर्करों में सरकार के प्रति व्यापक रोष है। इन वर्करों ने मांग की है कि प्रदेश सरकार उन्हें नियमित करके सरकारी कर्मचारी घोषित करे और प्रदेश सरकार की ओर से निर्धारित न्यूनतम वेतन दे। उनके वेतन में भी सालाना बढ़ोतरी की जाए और रिटायरमेंट की उम्र के बाद पेंशन का प्रावधान, छुट्टियों का प्रावधान और उनके वेतन में कटौती न करने की मांग की।

 

धरने में सीटू के राष्ट्रीय सचिव डॉ. कश्मीर सिंह ठाकुर, सीटू जिला सचिव जोगिंद्र कुमार, सीटू जिला सचिव सुरेश राठौर, मिड-डे मील वर्कर यूनियन के जिला अध्यक्ष सुरेश कुमार, सचिव रतन चंद, सीमा रानी, सुजाता, विद्या देवी, मीरा देवी, बीना देवी, नीता देवी, मीना देवी, मीना कुमारी, कैरो देवी, अंजना कुमारी, सोना कुमारी, नीलम देवी, पिंकी देवी आदि ने भाग लिया। धरने पर बैठे वर्करों ने कहा कि वे बहुत कम वेतन और असुविधाओं में गुजारा कर रहे हैं। जिससे उनका शोषण लगातार बढ़ रहा है। इसलिए इस धरने के माध्यम से सरकार उनकी मांगों और समस्याओं को मंजूर करे अन्यथा प्रदेश के तमाम मिड-डे मील वर्कर लामबंद होकर अपने काम को बंद करके उग्र आंदोलन करेंगे।

Follow Us