जब कोई संत भगवान को अवतार लेने के लिए पुकारता है तो वे अवतरित होते हैं

बीबीसीखबर, कानपुरUpdated 28-02-2021
जब

 बीबीसी खबर

साईं धाम के निकट पार्क में चल रही श्रीराम कथा में कथा ऋषि उमाशंकर व्यास जी महाराज कहते हैं कि भगवान का अवतार कब और कैसे होता है वह कहते हैं कि अनेक कारणों से भगवान के अवतार होते हैं परंतु जब कोई संत उन्हें अवतार लेने के लिए पुकारता है तो वे अवतरित होते हैं देवताओं मुनियों को आश्वस्त किया है कि मत डरो मैं अवतार लेकर तुम्हारी समस्या का समाधान करूंगा दूसरी और गोस्वामी तुलसीदास जी कहते हैं कि अयोध्या के राजा दशरथ जी के मन में ग्लानि हो गई कि मेरे पास कोई पुत्र नहीं है मैं अयोध्या जैसे राज्य को उत्तराधिकारी नहीं दे सका तुरंत गुरु वशिष्ठ के आश्रम गए और चरणों को पकड़कर अपना दुख सुख सुनाया गुरुदेव जी एक पुत्र का मुंह देखना चाहता हूं गुरुदेव जी ने पुत्र कामिष्ठी यज्ञ के सर्वश्रेष्ठ मुनि ऋषि श्रृंग को बुलाया और उनसे यज्ञ कराया अग्निदेव ने प्रकट होकर खीर का पात्र दशरथ को सौंपा और कहा इससे योग्यता अनुसार बांट दो दशरथ जी ने न्यायपूर्ण वितरण किया।

Follow Us